HomeWorld Newsइस शख्‍स के बारे में दावा-163 साल से है जिंदा, कहा जा...

इस शख्‍स के बारे में दावा-163 साल से है जिंदा, कहा जा रहा जीता-जागता ‘ममी’

दुनिया में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अजीब-गरीब खबरें व किस्से सुनने को मिलते रहते हैं|कुछ पर तो विश्वास किया जा सकता है, लेकिन कुछ अविश्वसनीय होती हैं| ऐसी ही एक क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है, जिसे देखकर यूजर्स भौचक्के रह गए हैं|उनका यह अनुमान लगा पाना मुश्किल हो गया है कि यह सच है या केवल मजाक|सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म टिकटोक में वायरल इस वीडियो में एक बौद्ध भिक्षु से लगने वाले बुजुर्ग दिखाई दे रहे हैं|वह थाइलैंड के एक अस्पताल में भर्ती है|वह काफी कमजोर व बीमार लग रहे हैं|ऐसे में यूजर्स ने उनकी उम्र के बारे में आकलन लगाना शुरू कर दिया|क्लिप को देखने के बाद कुछ लोगों ने दावा किया कि उनकी उम्र 163 साल है और बौद्ध भिक्षुओं के बीच लोकप्रिय जापानी तकनीक स्व-ममीकरण तकनीक का अभ्यास करते हैं|इस तकनीक को ‘सोकुशिनबुत्सु’ कहा जाता है|इन बुजुर्ग भिक्षु की वायरल तस्वीरों ने इंटरनेट में लोगों को काफी आकर्षित किया है|यह वीडियो उनकी पोती ने शूट कर अपने टिकटोक एकाउंट @ Auyary13 पर शेयर की है|इसे देखने के बाद भिक्षु की पोती औयरी के 5,30,000 फॉलोअर हो गए|वह रोजाना अपने दादा के बारे में अपडेट देती रहती है|इंटरनेट पर वीडियो वायरल होने के बाद उनकी उम्र की सच्चाई का पता लगाने में लोग जुट गए|टिकटोक पर 163 वर्षीय भिक्षु के बारे में जो अफवाहें सामने आईं, वह वास्तव में सच नहीं हैं| फेक्ट चेकर स्नोप्स के अनुसार, क्लिप में बुजुर्ग व्यक्ति 163 साल के नहीं हैं|उनका नाम लुआंग फो याई है और उनकी उम्र 109 साल है|इसके साथ ही वीडियो में भिक्षु जैसे दिखने वाले ये बुजुर्ग स्व-ममीकरण तकनीक का अभ्यास नहीं करते हैं|टिकटोक एकाउंट में इन बुजुर्ग का सबसे पहला वीडियो नवंबर 2021 में शेयर किया गया था, जिसमें उन्हें घर पर दिखाया गया था|हालांकि, जनवरी 2022 में कूल्हे की हड्डी टूटने के बाद उन्हें थाइलैंड के डैन खुन थॉट अस्पताल में लाया गया, जिसके बाद बुजुर्ग की क्लिप वायरल हुई और लाखों यूजर्स ने देखा|हाल ही में जो वीडियो शेयर किया गया है, उसमें दिख रहा है कि उनके स्वास्थ्य में सुधार हो रहा है|वह परिवार के साथ खाने, व्यायाम करने और घूमने जाने में सक्षम हैं|उनकी क्लिप वायरल होने के बाद कई लोगों ने उनकी उम्र को लेकर मजाक भी उड़ाया|इस पर औयरी ने कहा कि उनकी उम्र 109 साल है और वह लाश नहीं हैं|उनका सम्मान करना सीखिए|आपको ये वीडियो पसंद नहीं है, तो इस तरह की कोई टिप्पणी न करें|जापान में बौद्ध भिक्षुओं के बीच एक परंपरा सोकुशिनबुत्सु है|इसमें भिक्षु ममीकरण में प्रवेश करते हैं|इस अभ्यास में सख्त आहार शामिल होता है|भिक्षु धरती पर मरने के बाद पाइन बॉक्स में दफन होने से पहले वसा, मांसपेशियों और नमी से खुद को मुक्त करके एक तरीके से अपने शरीर को पूरी तरह से बाहरी चीजों से सुखा देते हैं|हालांकि, इस बात का कोई सबूत नहीं है कि वीडियो में दिख रहे लुआंग फो याई इस सेल्फ-ममिफिकेशन तकनीक का अभ्यास करते हैं| औयरी के टिकटॉक एकाउंट पर भी इस परंपरा का कोई उल्लेख नहीं है, इसलिए क्लिप के वायरल होने के बाद यह केवल कुछ यूजर्स द्वारा फैलाई गई अफवाह है|

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular