Thursday, March 30, 2023
Google search engine
HomeNational Newsपश्चिम बंगाल में बच्चों को स्कूलों तक ला रहा पाड़ाय शिक्षालय

पश्चिम बंगाल में बच्चों को स्कूलों तक ला रहा पाड़ाय शिक्षालय

22 महीनों के लंबे वक़्त के बाद पश्चिम बंगाल में प्राइमरी क्लास के बच्चे अब स्कूल जाने लगे हैं|कक्षा सातवीं में पढ़ने वाले अनमोल साव अपनी क्लास में पहली बेंच पर बैठे हैं| उनके शिक्षक उनसे कहते हैं कि वो पूरी क्लास को किताब से कुछ पंक्तियां पढ़ कर सुनाएं| अनमोल उत्सुकता से अपनी बेंच से उठते हैं और अंग्रेज़ी किताब का एक छोटा-सा पैराग्राफ़ पूरी क्लास को सुनाते हैं|बीबीसी से अनमोल साव ने बताया कि ऑनलाइन क्लास में उन्हें बहुत परेशानी होती थी क्योंकि स्कूल से मिलने वाला काम वो नहीं समझ पाते थे|उन्होंने कहा, “स्कूल में मेरे बहुत सारे दोस्त हैं और अब पढ़ाई भी समझ में आ रही है अच्छा लग रहा है|अनमोल स्कूल तो आने लगे हैं लेकिन फ़िलहाल यहां उनकी पढ़ाई उस तरह से नहीं हो रही है जैसा कि कोरोना लॉकडाउन से पहले होती है|दरअसल पश्चिम बंगाल सरकार ने कोरोना प्रोटोकॉल को ध्यान में रखते हुए बच्चों की पढ़ाई के लिए एक ख़ास अभियान चलाया है, जिसे पाड़ाय शिक्षालय अभियान कहा जाता है|इसके तहत बच्चे स्कूल तो आते हैं लेकिन वो क्लास-रूम में बैठने की जगह स्कूल के ही कैम्पस में खुली जगह में पढ़ाई करते हैं|मीता पंडित के तीन बच्चे भी इस स्कूल में पढ़ते हैं| उनके बच्चे ऑनलाइन कक्षाओं में शामिल नहीं हो पाए क्योंकि उनके पास स्मार्टफ़ोन नहीं था|मीता ने कहा, घर में ये लोग पढ़ने नहीं बैठ रहे थे|स्कूल में जो बच्चे पढ़ते हैं वो घर में नहीं हो पाता|अब रोज़ सुबह खाना खाकर वो ख़ुद ही तैयार हो जाते हैं स्कूल जाने के लिए|अनमोल श्री मानधारी हाई स्कूल में पढ़ते हैं| ये स्कूल पश्चिम बंगाल के राजधानी कोलकाता से क़रीब 55 किलोमीटर दूर कांचरापाड़ा नामक शहर में है| राज्य के अन्य स्कूलों की तरह यहां भी पाड़ाय शिक्षालय अभियान की शुरुआत हुई है|यहां स्कूल के प्रांगण में ही पेड़ों की छाया में बच्चों के लिए बेंच और ब्लैकबोर्ड का इंतज़ाम किया गया है|

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments